Second Navratri Shayari on Bharamcharini Mata


Is bar 29 september se prarambh hai, ye parv bharat me pure harsh or ullash se manaya jata hai. Navratri ke no rato me teen devio-Mahalakshmi, Mahasarswati or Durga ke noo savrupo ki pooja hoti hai. Jinhe navdurga kehte hai. Durga ka matlab hai dukho ko dur karne wali. Aaj navratri ke dusre din hum aapke lia mata bharamcharini ke savrup ki katha or shayari lekar aae hai jinhe aap apne dosto ke sath whatsapp per bhi share kar sakte hai. Shayari on Mata Chandarghanta

Bharamcharini Mata Second Navratri Shayari

कौन है माँ ब्रह्मचारिणी : मां दुर्गा की नवशक्ति का दूसरा स्वरूप ब्रह्मचारिणी का है। यहां ब्रह्म का अर्थ तपस्या से है। मां दुर्गा का यह स्वरूप भक्तों और सिद्धों को अनंत फल देने वाला है। इनकी उपासना से तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार और संयम की वृद्धि होती है। ब्रह्मचारिणी का अर्थ तप की चारिणी यानी तप का आचरण करने वाली। देवी का यह रूप पूर्ण ज्योतिर्मय और अत्यंत भव्य है। इस देवी के दाएं हाथ में जप की माला है और बाएं हाथ में यह कमण्डल धारण किए हैं। पूर्वजन्म में इस देवी ने हिमालय के घर पुत्री रूप में जन्म लिया था और नारदजी के उपदेश से भगवान शंकर को पति रूप में प्राप्त करने के लिए घोर तपस्या की थी। इस कठिन तपस्या के कारण इन्हें तपश्चारिणी अर्थात्‌ ब्रह्मचारिणी नाम से अभिहित किया गया। एक हजार वर्ष तक इन्होंने केवल फल-फूल खाकर बिताए और सौ वर्षों तक केवल जमीन पर रहकर शाक पर निर्वाह किया।  Hindi Shayari on Kushmanda Mata

पूजा विधि : मां ब्रह्मचारिणी की पूजा में सबसे पहले मां को फूल, अक्षत, रोली, चंदन आदि अर्पण करें। उन्हें दूध, दही, घृत, मधु व शर्करा से स्नान कराएं और इसके देवी को प्रसाद चढ़ाएं। प्रसाद पश्चात आचमन कराएं और फिर पान, सुपारी, लौंग अर्पित करें। पूजा करने के समय हाथ में फूल लेकर इस मंत्र से मां की प्रार्थना करें, 'दधाना कर मद्माभ्याम अक्षमाला कमण्डलू। देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा।।' इसके बाद अक्षत, कुमकुम, सिंदूर आदि अर्पित करें। मां पूजा करने वाले भक्त जीवन में सदा शांत चित्त और प्रसन्न रहते हैं। उन्हें किसी प्रकार का भय नहीं सताता। Fifth Navratri Shayari in Hindi

Mata Bharamcharini Shayari.

हमको था इंतजार वो घड़ी आ गई
होकर सिंह पर सवार माता रानी आ गई
होगी अब मन की हर मुराद पूरी
भरने सारे दुःख माता अपने द्वार आ गई

Humko tha intejar wo ghadi aa gayi
Hokar singh pe sawar mata rani aa gayi
Hogi ab man ki har murad puri
Bharne sare dukh mata apne dwar aa gayi

सच्चा है माँ का दरबार
मैया सब पर दया करती समान
मैया है मेरी शेरोंवाली
शान है माँ की बड़ी निराली
दुर्गा माँ के आशीर्वाद में असर बहुत है
Shayari on Katyayni Mata

Sacha hai ma ka darbar
Maiya sab per daya karti samman
Maiya hai meri sherowali
Shan hai ma ke badi nirali
Durga ma ke aashirwad me asar bahut hai

जगत पालनहार है मां
मुक्ति का धाम है मां
हमारी भक्ति का आधार है मां
सबकी रक्षा की अवतार है मां

Shayari on Maa Bharamcharini for Whatsapp.

Jagat palanhar hai maa
Mukti ka aadhar hai maa
Humari bhagti ka aadhar hai maa
Sabki raksha ki avtar hai maa

देवी के कदम आपके घर में आये
आप खुश्नाली से नहाये
परेशानिया आपसे आँखें चुराए
नवरात्रि की आपको शुभकामनायें

Devi ke kadam aapke ghar me aae
Aap khusnali se nahae
Paresania aapse aankhe churae
Navratri ki aapko subhkamnae

लोगों ने कुछ दिया तो सुनाया भी बहुत है
हे माँ दुर्गे
एक तेरा ही दर है
जहां मुझे कभी ताना नहीं मिला
Seventh Navratri Shayari on Kalratri Mata

Logo ne kuch dia to sunaya bhi bahut hai
Hey ma durge
Ek tera hi dar hai
Jahan mujhe kabhi tana nhi mila

Best Shayari Collection for Navratri.

क्या है पापी क्या है घमंडी
माँ के दर पर सभी शीश झुकाते
मिलता है चैन तेरे दर पे मैया
झोली भरके सभी है जाते

Kya hai papi kya hai ghamandi
Maa ke dar per sabhi sish jhukate
Milta hai chain tere dar pe maiaya
Jholi bharke sabhi hai jate

लाल रंग की चुनरी से सजा माँ का दरबार
हर्षित हुआ संसार
नन्हें नन्हें क़दमों से
मां आये आपके द्वार
मुबारक हो आपको नवरात्री का त्योहार
Shayari on Mahagauri Mata

Lal rang ki chunri se saja ma ka dwar
Harshit hua sansar
Nanhe nanhe kadmo se
Maa aaye aapke dwar
Mubarak ho aapko navratri ka tyohar

प्यार का तराना उपहार हो
खुशियों का नजराना बेशुमार हो
ना रहे कोई गम का एहसास
ऐसा नवरात्री उत्सव का साल हो

Best collection on Mata Bharamcharini shayari.

Pyar ka tarana uphar ho
Khusio ka najrana besumar ho
Na rahe koi gum ka ehsas
Aisa navratri utsav ka saal ho

जिनके मन में माता रानी का नाम है
भाग्य में उसके वैकुण्ठ धाम है
उनके चरणो में जिसने जीवन वार दिया
संसार में उसका कल्याण है

Jinke man me mata rani ka naam hai
Bhagya me uske vaikunth dham hai
Unke charno me jisne jiwan var dia
Sansar me uska kalyan hai
Shayari on Shailputri Mata

भक्तो का दुःख ये लेती हैं
उनको अपार सुख देती हैं
नैनो में जो माँ दुर्गा को बसाते
बिन माँगे ही सब कुछ पाते
नवरात्रि की शुभकामनाएँ

Bhagto ka dukh le leti hai
Unko aapar sukh deti hai
Naino me jo ma durga ki basate
Bin mange hi sab kuch pate
Navratri ki Subhkamnae

Navratri ke dusre din mata bharamcharini ki pooja ki jati hai. Navratro ke noo din jo bhi sache maan se pure vidhi vidhan ke sath pooja karta hai mata uski har manokamna puran karti hai. Ummid hai ke aapko mata bharamcharini shayari collection bahut pasand aaega or adhik janne ke lia hmare home page per visit kare. Aapko hmara collection kaisa lga comment me jarur btae taki hum or bhi ache post aapke lia la sake.

Post a Comment

0 Comments