Third Navratri Shayari on Chandarghanta Mata


Navratri me noo din tak ma durga ke alag alag rupo ki pooja archna ki jati hai. Sastro me in sabhi rupo ka alg alg mehtav or alg alg katha hai. Kehte hai ke jo bhagt navratro me noo dino tak sabhi savrupo ki sache dil se aradhna karta hai mata unki sab manokamna puran karti hai, or hmesha unpar apna darastikon bnae rakhti hai. Aap mata chandarghanta ki shayari ko whatsapp, facebook per apne dosto or rishtedaro ke sath bhi share kar sakte hai. Fourth Navratri Shayari

Third Navratri Chandarghanta Mata Shayari

माँ चंद्रघंटा : माँ दुर्गा की नौ शक्तियों की तीसरी स्वरूप माँ चंद्रघंटा की नवरात्री के तीसरे दिन अर्चना की जाती है. माता के मस्तक पर घंटाकार के अर्धचंद्र के कारण इनको चंद्रघंटा कहा जाता है. माँ का शरीर स्वर्ण के समान उज्जवल है, वे सिंह पर आरूढ हैं तथा दस हाथों में विभिन्न प्रकार के अस्त्र-शस्त्र लिए हुई हैं| सिंहारूड माँ चंद्रघंटा युद्ध के लिए तत्पर हैं एवं उनके घंटे से निकलने वाली प्रचंड ध्वनि असुरों को भयभीत करती है| माता चंद्रघंटा की उपासना साधक को आध्यात्मिक एवं आत्मिक शक्ति प्रदान करती है| नवरात्री के तीसरे दिन माता चंद्रघंटा की साधना कर दुर्गा सप्तशती का पाठ करने वाले उपासक को संसार में यश, कीर्ति एवं सम्मान मिलता है|  Shayari on Sankadamata Mata

मां चन्द्रघंटा का स्वरूप : चन्द्रघंटा देवी का स्वरूप तपे हुए स्वर्ण के समान कांतिमय है. चेहरा शांत एवं सौम्य है और मुख पर सूर्यमंडल की आभा छिटक रही होती है माता के सिर पर अर्ध चंद्रमा मंदिर के घंटे के आकार में सुशोभित हो रहा जिसके कारण देवी का नाम चन्द्रघंटा हो गया है. अपने इस रूप से माता देवगण, संतों एवं भक्त जन के मन को संतोष एवं प्रसन्न प्रदान करती हैं. मां चन्द्रघंटा अपने प्रिय वाहन सिंह पर आरूढ़ होकर अपने दस हाथों में खड्ग, तलवार, ढाल, गदा, पाश, त्रिशूल, चक्र,धनुष, भरे हुए तरकश लिए मंद मंद मुस्कुरा रही होती हैं| Sixth Navratri Shayari in Hindi

पूजा विधि : तीसरे दिन की पूजा में माता की चौकी पर माता चंद्रघंटा की प्रतिमा या तस्वीर स्थापित करें। इसके बाद गंगा जल या गोमूत्र से शुद्धिकरण करें। चौकी पर चांदी, तांबे या मिट्टी के घड़े में जल भरकर उस पर नारियल रखकर कलश स्थापना करें। इसके बाद पूजन का संकल्प लें और वैदिक एवं सप्तशती मंत्रों द्वारा मां चंद्रघंटा सहित समस्त स्थापित देवताओं की षोडशोपचार पूजा करें। इसमें आवाहन, आसन, पाद्य, अध्र्य, आचमन, स्नान, वस्त्र, सौभाग्य सूत्र, चंदन, रोली, हल्दी, सिंदूर, दुर्वा, बिल्वपत्र, आभूषण, पुष्प-हार, सुगंधित द्रव्य, धूप-दीप, नैवेद्य, फल, पान, दक्षिणा, आरती, प्रदक्षिणा, मंत्रपुष्पांजलि आदि करें। तत्पश्चात प्रसाद वितरण कर पूजन संपन्न करें। मां चंद्रघंटा को दूध और उससे बनी चीजों का भोग लगाएं और और इसी का दान भी करें। ऐसा करने से मां खुश होती हैं और सभी दुखों का नाश करती हैं। इसमें भी मां चंद्रघंटा को मखाने की खीर का भोग लगाना श्रेयस्कर माना गया है। Shayari on Kalratri Mata

Hindi Shayari for Navratri.

माला से मोती तुम तोड़ा ना करो
धर्म से मुँह तुम मोड़ा ना करो
बहुत कीमती हैं जय माता का नाम
माता रानी की जय बोलना कभी छोड़ा ना करो

Mala se moti tum toda na karo
Dharm se muh tum moda na karo
Bahut kimti hai jai mata ka naam
Mata rani ki jay bolna kabhi choda na karo

क्या पापी, क्या घमंडी
माँ के दर पर सभी शीश झुकाते हैं
मिलता है चैन तेरे दर पे मैया
झोली भरके सभी जाते हैं
Eighth Navratri Shayari in Hindi

Kya papi, kya ghamandi
Maa ke dar per sabhi sish jhukate hai
Milta hai chain tere dar pe maiaya
Jholi bharke sabhi jate hai

जिंदगी की हर तमन्ना हो पूरी
आपकी कोई आरजू रहे न अधूरी
करते है हाथ जोड़कर माँ दुर्गा की विनती
आपकी हर मनोकामना हो पूरी

Mata Chandraghanta Shayari.

Zindgi ki har tamanna ho puri
Aapki koi aarju rahe na adhuri
Karte hai hath jodkar ma durga ki vinti
Aapki har manokamna ho puri

माँ की आराधना का ये पर्व हैं
माँ के नौ रूपों की भक्ति का पर्व हैं
बिगड़े काम बनाने का पर्व हैं
भक्ति का दिया दिल में जलाने का पर्व हैं

Maa ki aaradhna ka ye parv hai
Maa ke noo rupo ki bhagti ka parv hai
Bigade kam bnane ka parv hai
Bhagti ka diya dil me jalane ka parv hai
Hindi Shayari on Siddhidatri Mata

सारा जहाँ है जिसकी शरण में
नमन है उस माता के चरण में
बने उस माता के चरणो की धूल
आओ मिल कर चढ़ाये श्रद्धा के फूल

Sara Jahan Hai Jiski Sharan Me
Naman Hai Us Mata K Charan Me
Bane Us Mata Ke Charano Ki Dhul
Aao Mil Kar Chadhaye Shraddha Ke Phool

Shayari on Maa chandraghanta for Whatsapp.

हमको था इंतजार वो घड़ी आ गई
होकर सिंह पर सवार माता रानी आ गई
होगी अब मन की हर मुराद पूरी
भरने सारे दुःख माता अपने द्वार आ गई

Humko tha intejar wo ghadi aa gayi
Hokar singh pe sawar mata rani aa gayi
Hogi ab maan ki har murad puri
Bharne sare dukh mata apne dwar aa gyi

माता रानी वरदान ना देना हमें
बस थोडा सा प्यार देना हमें
तेरे चरणों में बीते ये जीवन सारा
एक बस यही आशीर्वाद देना हमें
Hindi Shayari on Bharamcharini Mata

Mata rani vardan na dena hume
Bas thoda sa pyar dena hume
Tere charno me bite ye jiwan sara
Ek bus yahi aashirwad dena hume

सजा हे दरबार
एक ज्योति जगमगाई है
सुना हे नवरात्रिि का त्योहार आया हैं
वो देखो मंदिर में मेरी माता मुस्करायी है

Best Shayari Collection for Navratri.

Saja hai darbar
Ek jyoti jagmagai hai
Suna hai navratro ka tyohar aaya hai
Wo dekho mandir me meri mata muskai hai

लाल रंग की चुनरी से सजा माँ का दरबार
हर्षित हुआ मैं पुलकित हुआ संसार
गरबे की मस्ती खुशियों का भंडार
मुबारक हो आपको नवरात्री का त्यौहार

Lal rang ki chunri se saja maa ka darbar
Harshit hua main pulkit hua sansar
garbe ki masti khusion ka bhandar
Mubarak ho aapko navratri ka tyohar
Shayari on Shailputri Mata

हो जाओ तैयार, माँ अम्बे आने वाली हैं
सजा लो दरबार माँ अम्बे आने वाली हैं
तन, मन और जीवन हो जायेगा पावन
माँ के कदमो की आहट से, गूँज उठेगा आँगन

Ho jao tyar, maa ambe aane wali hai
Saja lo darbar maa ambe aane wali hai
Tan, man or jiwan ho jaega pawn
Maa ke kadmo ki aahat se, gunj uthega aangan

Navratre ke tisre din mata chandarghanta ki pooja ki jati hai. Mata chandarghanta ke mastak per chand ka aakar hai islia unhe chandarghanta ke naam se jana jata hai. Mata chandarghanta ki das bhujae hai or daso bhujao me unhone sastar grehn kar rakhe hai. Dosto aisi hi or bhi post dekhne ke lia hmare home page per visit kare ummid hai ke aapko hmari ye post jarur pasand aaegi, aapko hmari post kaisi lag comment me jarur btae.

Post a Comment

0 Comments