Ninth Navratri Shayari on Siddhidatri Mata


Maa durga ki novi shakti ka naam maa siddhidatri hai. Ye sabhi prakar ki siddhio ko dene wali hai. Navratri pujan ke nove din inki pooja ki jati hai. Is din sastria vidhi-vidhan or puran nista ke sath sadhna karne wale sadhak ko sabhi siddhio ko prapti ho jati hai. Saristi me kuch bhi uske lia agamya nahi reh jata hai. In shayari ko apne dosto or rishtedaro ke sath social media per share krke unhe navratri ki badhai de. Eighth Navratri Shayari

Shayari on Siddhidatri Mata - Ninth Navratri Shayari

मां सिद्धिदात्री : शास्त्रों के अनुसार ऐसी मान्यता है कि मां पार्वती ने महिषासुर नामक राक्षस को मारने के लिए दुर्गा का रूप लिया था. महिषासुर एक राक्षस था जिससे मुकाबला करना सभी देवताओं के लिए मुश्किल हो गया था. इसलिए आदिशक्ति ने दुर्गा का रुप धारण किया और महिषासुर से 8 दिनों तक युद्ध किया और नौवें दिन महिषासुर का वध कर दिया| उसके बाद से नवरात्रि का पूजन किया जाने लगा| नौवें दिन को महानवमी के दिन से जाना जाने लगा| इनकी पूजा से इससे यश, बल और धन की प्राप्ति होती है. सिद्धिदात्री देवी उन सभी भक्तों को महाविद्याओं की अष्ट सिद्धियां प्रदान करती हैं, जो सच्चे मन से उनके लिए आराधना करते हैं. मान्यता है कि सभी देवी-देवताओं को भी मां सिद्धिदात्री से ही सिद्धियों की प्राप्ति हुई है| Seventh Navratri Shayari in Hindi

मां सिद्धिदात्री का रूप : देवी सिद्धिदात्री का रूप अत्यंत सौम्य है, देवी की चार भुजाएं हैं। दाईं भुजा में माता ने चक्र और गदा धारण किया है और बांई भुजा में शंख और कमल का फूल है। मां सिद्धिदात्री कमल आसन पर विराजमान रहती हैं, मां की सवारी सिंह हैं। मां की आराधना वाले इस दिन को रामनवमी भी कहा जाता है और शारदीय नवरात्रि के अगले दिन अर्थात दसवें दिन को रावण पर राम की विजय के रूप में मनाया जाता है। Shayari on Katyayni Mata

पूजा विधि : दुर्गा पूजा में इस तिथि को विशेष हवन किया जाता है। यह नौ दुर्गा आराधना का अंतिम दिन भी होता है तो इस दिन माता सिद्धिदात्री के बाद अन्य देवताओं की भी पूजा की जाती है। सर्वप्रथम माता जी की चौकी पर सिद्धिदात्री माँ की तस्वीर या मूर्ति रख इनकी आरती और हवन किया जाता है। हवन करते वक्त सभी देवी दवताओं के नाम से हवि यानी अहुति देनी चाहिए। बाद में माता के नाम से अहुति देनी चाहिए। दुर्गा सप्तशती के सभी श्लोक मंत्र रूप हैं अत: सप्तशती के सभी श्लोक के साथ आहुति दी जा सकती है। देवी के बीज मंत्र “ऊँ ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे नमो नम:” से कम से कम 108 बार हवि दें। भगवान शंकर और ब्रह्मा जी की पूजा पश्चात अंत में इनके नाम से हवि देकर आरती करनी चाहिए। हवन में जो भी प्रसाद चढ़ाया है जाता है उसे समस्त लोगों में बांटना चाहिए। Hindi Shayari on Sankadamata Mata

Mata Shiddhidatri Shayari.

कुमकुम भरे क़दमों से आए
माँ दुर्गा आपके द्वार
सुख संपत्ति मिले आपको अपार
मेरी और से नवरात्रि की शुभकामनाएं करें स्वीकार

Kumkum bhare kadmo se aae
Maa durga aapke dwar
Sukh sampatti mile aapko aapar
Meri or se navratri ki subhkamnae kare savikar
Fourth Navratri Shayari

हे माँ तुमसे विश्वास ना उठने देना
तेरी दुनिया में भय से जब सिमट जाऊं
चारो ओर अँधेरा ही अँधेरा घना पाऊं
बन के रोशनी तुम राह दिखा देना

Hey maa tumse vishwas na uthne dena
Teri dunia me bhya se jab simat jau
Charo or andhera hi andhera ghana pau
Ban ke roshni tum rah dikha dena

प्यार का तराना उपहार हो
खुशियों का नज़राना बेशुमार हो
न रहे कोई गम का एहसास
ऐसा नवरात्र उत्सव इस साल हो

Shayari on Maa Shiddhidatri for Whatsapp.

Pyar ka tarana uphar ho
Khusiyo ka nazrana beshumar ho
Na rahe koi gum ka ehsas
Aisa navratra utsav is sal ho

ना गिन कर दिया ना तोल कर दिया
जब भी दिया शेरोंवाली माँ ने
दिल खोल कर दिया
जय शेरोंवाली माँ

Na gin kar diya na tol kar dia
Jab bhi dia sherowali maa ne
Dil khol kar dia
Jai sherowali maa
Shayari on Mata Chandarghanta

न हो कोई दुःख
न हो कोई परेशां
हो बस खुशियाँ खुशियाँ
नवरात्री इतना अच्छा हो इस साल

Na ho koi dukh
Na ho koi pareshan
ho bas khushiyan khushiyan
Navratri itna acha ho is saal

Best Shayari Collection for Navratri.

प्यार का तराना उपहार हो
खुशियों का नजराना बेशुमार हो
ना रहे कोई गम का एहसास
ऐसा नवरात्री उत्सव का साल हो

Pyar ka tarana uphar ho
Khusion ka najrana besumar ho
Na rahe koi gum ka ehsas
Aisa navratri utsav ka saal ho

मां भरती झोली खाली
मां अम्बे वैष्णो वाली
मां संकट हरने वाली
मां विपदा मिटाने वाली
Hindi Shayari on Bharamcharini Mata

Maa bharti jholi khali
Maa ambe vaishno wali
Maa sankat harne wali
Maa vipda mitane wali

नव दिप जले
नव फूल खिले
नित्य नयी बहार मिले
नवरात्री के इस पावन अवसर पर
आपको माता रानी का आशिर्वाद मिले

Best collection on Mata Shiddhidatri shayari.

Nav deep jale
Nav full khile
Nitya mai bahar mile
Navratri ke is pawan avsar per
Aapko mata rani ka aashirwad mile

चारों ओर है छाया अंधेरा
कर दे माँ रोशन जीवन मेरा
तुझ बिन कौन यहाँ मेरा
तू जो आए सामने हो जाए सवेरा

Charo oor hai chhaya andhera
kar de maa roshan jivan mera
tujh bin kaun yaha mera
tu jo aaye saamne ho jaye savera
Hindi Shayari on Shailputri Mata

जगत पालनहार है माँ
मुक्ति का द्वार है माँ
हमारी भक्ति का आधार है माँ
हम सबकी रक्षा की अवतार है माँ

Jagat palanhar hai maa
Mukti ka dwar hai maa
Humari bhagti ka aadhar hai maa
Hum sabki raksha ki awtar hai maa

Navratri ke aantim din ma siddhidatri ki pooja ki jati hai. Maa siddhidatri bhagto ko har prakar ki siddhi pradan karti hai. Unko maa durga ki novi shakti mana jata hai. Ummid hai aapko ye collection pasand aaega or bhi shayari dekhne ke lia humare home page per visit kare or comment karna na bhule.

Post a Comment

0 Comments