Sixth Navratri Shayari on Katyayni Mata


Navratri ke chate din devi ke chate savrup ma katyayni ki pooja ka vidhan hai. Maa ke is rup me prakat hone ki badi hi adhbut katha mani jati hai, ki devi ke is rup ne mahisasur ka mardan kia tha. Devi bhagwat puran ke anusar devi ke is savrup ki pooja grehsto or vivah ke ichuk logo ke lia bahut hi faldayi hai. Seventh Navratri Shayari in Hindi

Sixth Navratri Katyayni Mata Shayari

मां कात्यायनी : इस देवी को नवरात्रि में छठे दिन पूजा जाता है। कात्य गोत्र में विश्वप्रसिद्ध महर्षि कात्यायन ने भगवती पराम्बा की उपासना की। कठिन तपस्या की। उनकी इच्छा थी कि उन्हें पुत्री प्राप्त हो। मां भगवती ने उनके घर पुत्री के रूप में जन्म लिया।इसलिए यह देवी कात्यायनी कहलाईं। इनका गुण शोधकार्य है। इसीलिए इस वैज्ञानिक युग में कात्यायनी का महत्व सर्वाधिक हो जाता है। इनकी कृपा से ही सारे कार्य पूरे जो जाते हैं। ये वैद्यनाथ नामक स्थान पर प्रकट होकर पूजी गईं। मां कात्यायनी अमोघ फलदायिनी हैं। भगवान कृष्ण को पति रूप में पाने के लिए ब्रज की गोपियों ने इन्हीं की पूजा की थी। यह पूजा कालिंदी यमुना के तट पर की गई थी। इसीलिए ये ब्रजमंडल की अधिष्ठात्री देवी के रूप में प्रतिष्ठित हैं। इनका स्वरूप अत्यंत भव्य और दिव्य है। ये स्वर्ण के समान चमकीली हैं और भास्वर हैं।  Hindi Shayari on Mahagauri Mata

मां कात्यायनी का रूप : इनकी चार भुजाएं हैं। दाईं तरफ का ऊपर वाला हाथ अभयमुद्रा में है तथा नीचे वाला हाथ वर मुद्रा में। मां के बाईं तरफ के ऊपर वाले हाथ में तलवार है व नीचे वाले हाथ में कमल का फूल सुशोभित है। इनका वाहन भी सिंह है। Ninth Navratri Shayari

पूजा विधी : दुर्गा पूजा के छठे दिन प्रात: जल्दी उठ स्नान कर देवी कात्तायिनी का ध्यान करना चाहिए. इसके पश्चात पहले दिन की तरह कलश और उसमें उपस्थित सभी देवी देवताओं की पूजा करनी चाहिए. कलश पूजा के बाद देवी कात्तायिनी की पूजा कर शहद का भोग लगाना चाहिए. हाथों में पुष्प लेकर माता के ऊपर दिए गए मन्त्रों का जाप करते हुए उन पर पुष्प अर्पित करने चाहिए| Hindi Shayari on Sankadamata Mata

Shayari on Maa Katyayni for Whatsapp.

कात्यायनी रूप तेरा दुर्गा माँ 6 प्यारा
इसको जो जपता उसपर बहे तेरे आशिरवाद की धारा
उसकी ज़िंदगी में बस चारो और खुशीआं हो
घर में उसके नवदुर्गा तेरा ही आगमन हो

Katyayani hai roop tera durga maa 6 pyara
Isko jo japta uspar bahe tere aashirwad ki dhara
Uski jendgi me bas charon aur khushiyan ho
Ghar me uske navdurga tera hi aagman ho
Fourth Navratri Shayari

जगत पालनहार है माँ
मुक्ति का धाम है माँ
हमारी भक्ति का आधार है माँ
सबकी रक्षा की अवतार है माँ

Jagat palanhar hai maa
Mukti ka dham hai maa
Humari bhagti ka aadhar hai maa
Sabki raksha ka avtar hai maa

सच्चा है माँ का दरबार
मैया सब पर दया करती समान
मैया है मेरी शेरोंवाली
शान है माँ की बड़ी निराली
दुर्गा माँ के आशीर्वाद मे
असर बहुत है

Mata Katyayni Shayari.

Saccha hai ma ka darbar
Maiya sab per daya karti saman
Maiya hai meri sherowali
Shan hai ma ki badi nirali
Durga maa ke aashirwad me
Asar bahut hai

हो जाओ तैयार, माँ अम्बे आने वाली है
सजा लो दरबार माँ अम्बे आने वाली हैं
तन,मन और जीवन हो जायेगा पावन
माँ के कदमो की आहट से गूँज उठेगा आँगन
Shayari on Mata Chandarghanta

Ho jao tayar maa aambe aane wali hai
Saja lo darbar maa ambe aane wali hai
Taan, maan or jiwan ho jaega pawan
Maa ke kadmo ki aahat se gunj uthega aangan

माता रानी वरदान ना देना हमें
बस थोडा सा प्यार देना हमें
तेरे चरणों में बीते ये जीवन सारा
एक बस यही आशीर्वाद देना हमें
आप सब को नवरात्रि की शुभ कामनायें

Mata rani vardan na dena hume
Bas thoda sa pyar dena hume
Tere charno me bete ye jiwan sara
Ek bas yahi aashirwad dena hume
Aap sab ko navratri ki subhkamnae

Best Shayari Collection for Navratri.

प्रेम से बोलो जय माता दी
जोर से बोलो जय माता दी
सब मिलकर बोलो जय माता दी
नवरात्री के सभी पढने वाले को
नवरात्रि की शुभकामनाएं

Prem se bolo jai mata di
Jor se bolo jai mata di
Sub milkar bolo jai mata di
Navratri ke sabhi padhne wale ko
Navratri ki subhkamnae
Hindi Shayari on Bharamcharini Mata

सजा हे दरबार, एक ज्योति जगमगाई है
सुना हे नवरात्रिि का त्योहार आया हैं
वो देखो मंदिर में मेरी माता मुस्करायी है
जय माँ दुर्गा

Saja hai darbar ek jyoti jagmagai
Suna hai navratri ka tyohar aaya hai
Wo dekho mandir me meri mata muskurai hai
Jai maa durga

लाल रंग क़ी चुनरी से सजा माँ का दरबार
हर्षित हुआ मन, पुलकित हुआ संसार
नन्हे -नन्हे कदमो से माँ आये आपके द्वार
मुबारक हो आपको नवरात्री का त्यौहार

Best collection on Mata Katyayni shayari.

Lal rang ki chunri se saja ma ka darbar
Harshit hua maan pulkit hua sansar
Nanhe-Nanhe kadmo se ma aaye aapke dwar
Mubarak ho aapko navratri ka tyohar

दुआओ में शामिल हो इस तरह
फूलों में होती है खुशबू जीस तरह
माता आपकी जिंदगी में खुशियां दें इस तरह
धरती पर होती है बारिश जिस तरह
First Navratri Shayari

Duaon me shamil ho is tarah
fulon me hoti hai khuSBU jis tarah
mata aapki jindagi mein khushiya de is tarah
dharti par hoti hai baarish jis tarah

दिव्य है आँखों का नूर
करती है संकटों को दूर
माँ की छवि है निराली
नवरात्रि में आई है खुशहाली

Divya hai aankho ka nur
Karti hai sankat ko dur
Maa ki chavi hai nirali
Navratri me aai hai khushali

Maa katyayni ko lal rang or sahed bhot pariya hai. Islia lal rang ke kapde pehne or maa katyayni ko sahed ka bhog lgae isse maa katyayni persn hogi or jo bhi sache maan se maa katyani ki pooja karta hai maa uske sab dukh dard dur karti hai. Ummid hai aapko humari navratri collection jarur pasand aaegi, in shayari ko apne dosto or rishtedaro ke sath bhi share kare or bhi achi post dekhne ke lia hmare home page per jaruar visit kare or comment karna na bhule.

Post a Comment

0 Comments