Fourth Navratri Shayari on Kushmanda Mata


Wese to saal me char bar navratre aate hai per yhape do bar hi mnae jate hai. Ek to chaitr mah me or dusre ashwin shardia mah me jo september, october me aate hai. Kehte hai ki maa bahgwati ke noo rup shailputri, bharamcharini, chandarghanta, kushmanda, sankadmata, katyani, kalratri, mahagori or maa sidhidatri ki pooja inhi dino me ki jati hai. Dosto in shayari ko aap apne dosto or rishtedaro ke sath share karke unhe navratri ki subhkamnae bhi de sakte hai. Shayari on Sankadamata Mata

Fourth Navratri Kushmanda Mata Shayari

मां कुष्मांडा : नवरात्रि में चौथे दिन देवी को कुष्मांडा के रूप में पूजा जाता है। अपनी मंद, हल्की हंसी के द्वारा अण्ड यानी ब्रह्मांड को उत्पन्न करने के कारण इस देवी को कुष्मांडा नाम से अभिहित किया गया है। जब सृष्टि नहीं थी, चारों तरफ अंधकार ही अंधकार था, तब इसी देवी ने अपने ईषत्‌ हास्य से ब्रह्मांड की रचना की थी। इसीलिए इसे सृष्टि की आदि स्वरूपा या आदि शक्ति कहा गया है। इस देवी की आठ भुजाएं हैं, इसलिए अष्टभुजा कहलाईं। इनके सात हाथों में क्रमशः कमण्डल, धनुष, बाण, कमल-पुष्प, अमृतपूर्ण कलश, चक्र तथा गदा हैं। आठवें हाथ में सभी सिद्धियों और निधियों को देने वाली जप माला है। इस देवी का वाहन सिंह है और इन्हें कुम्हड़े की बलि प्रिय है। संस्कृति में कुम्हड़े को कुष्मांड कहते हैं इसलिए इस देवी को कुष्मांडा। इस देवी का वास सूर्यमंडल के भीतर लोक में है। सूर्यलोक में रहने की शक्ति क्षमता केवल इन्हीं में है। इसीलिए इनके शरीर की कांति और प्रभा सूर्य की भांति ही दैदीप्यमान है। इनके ही तेज से दसों दिशाएं आलोकित हैं। ब्रह्मांड की सभी वस्तुओं और प्राणियों में इन्हीं का तेज व्याप्त है। Sixth Navratri Shayari in Hindi

मां कूष्माण्डा का रूप : चेहरे पर हल्की मुस्कान और सिर पर बड़ा-सा मुकूट. आठों हाथों में अस्त और शस्त्र जिसमें सबसे पहले कमल का फूल, तीर, धनुष, कमंडल, मटकी, चक्र, गदा और जप माला. सवारी है इनकी शेर. लाल साड़ी और हरा ब्लाउज हैं इनके वस्त्र| Shayari on Kalratri Mata

पूजा विधि : माता कुष्मांडा के दिव्य रूप को मालपुए का भोग लगाकर किसी भी दुर्गा मंदिर में ब्राह्मणों को इसका प्रसाद देना चाहिए। इससे माता की कृपा स्वरूप उनके भक्तों को ज्ञान की प्राप्ति होती है, बुद्धि और कौशल का विकास होता है। देवी को लाल वस्त्र, लाल पुष्प, लाल चूड़ी भी अर्पित करना चाहिए। Eighth Navratri Shayari

Best collection on Mata Kushmanda shayari.

हे माँ तुमसे विश्वास ना उठने देना
तेरी दुनिया में भय से जब सिमट जाऊं
चारो ओर अँधेरा ही अँधेरा घना पाऊं
बन के रोशनी तुम राह दिखा देना

Hey maa tumse vishwas na uthne dena
Teri dunia me bhaya se jab simat jau
Charo or andhera hi andhera ghana paun
Ban ke roshni tum rah dikha dena
Ninth Navratri Shayari in Hindi

देवी के कदम आपके घर में आये
आप खुश्नाली से नहाये
परेशानिया आपसे आँखें चुराए
नवरात्रि की आपको शुभकामनायें

Devi ke kadam aapke ghar me aaye
Aap khusnali se nahae
Preshani aapse aankhe churae
Navratri ki aapko subhkamnae

माता तेरे चरणों मे
भेंट हम चढ़ाते हैं
कभी नारियल तो
कभी फूल चढ़ाते हैं
और झोलियाँ भर भर के
तेरे दर से लाते हैं

Mata Kushmanda Shayari.

Mata tere charno me
Bhent hum chadate hai
Kabhi narial to
Kabhi full chadhate hai
Or jholi bhar bhar ke
Tere dar se late hai

हे माँ तुमसे विश्वास ना उठने देना
तेरी दुनिया में भय से जब सिमट जाऊं
चारो ओर अँधेरा ही अँधेरा घना पाऊं
बन के रोशनी तुम राह दिखा देना
Hindi Shayari on Mata Chandarghanta

Hey maa tumse vishwas na uthne dena
Teri dunia me bhaya se jab semat jau
Charo or andhera hi andhera ghana paun
Ban ke roshni tum rah dikha dena

जगत पालन हार है माँ
मुक्ति का धाम है माँ
हमारी भक्ति का आधार है माँ
हम सब की रक्षा की अवतार है माँ

Jagat palan har hai maa
Mukti ka dhaam hai maa
Humari bhagti ka aadhar hai maa
Hum sab ki raksha ki avtar hai maa

Best Shayari Collection for Navratri.

लाल रंग की चुनरी से सजा माँ का दरबार
हर्षित हुआ मन, पुलकित हुआ संसार
नन्हें-नन्हें क़दमों से माँ आए आपके द्वार
इस नवरात्रिि यही हैं हमारी दुआ

Lal rang ki chunri se saja ma ka darbar
Harshit hua man, pulkit hua sansar
Nanhe nanhe kadmo se maa aae aapke dware
Is navratre yahi hai hmari dua
Shayari on Bharamcharini Mata

प्यार का तराना उपहार हो
खुशियों का नज़राना बेशुमार हो
न रहे कोई गम का एहसास
ऐसा नवरात्र उत्सव इस साल हो

Pyar ka tarana uphar ho
Khushiyo ka nazrana beshumar ho
Na rahe koi gam ka ehsas
Aisa navratra utsav is saal ho

हो जाओ तैयार मां अंबे आने वाली है
सजा लो दरबार मां अंबे आने वाली हैं
तन मन और जीवन हो जाएगा पावन
मां के कदमों की आहट से गूंज उठेगा आंगन

Shayari on Maa Kushmanda for Whatsapp.

Ho jao taiyar maa ambe aane wali hai
Saja lo darbaar maa ambe aane wali hai
Tan man aur jeevan ho jayega paawan
Maa ke kadmo ki aahat se gunj uthega aangan

चाँद को चाँदनी, बसंत को बहार
फूलों को खुशबू, अपनों का प्यार
मुबारक हो आपको नवरात्रि का त्यौहार
सदा खुश रहे आप और आपका परिवार
First Navratri Shayari

Chand ki chandani ko bahar
Fullon ki khusboo, apno ka pyar
Mubarak ho aapko navratri ka tyohar
Sada khus rahe aap or aapka parivar

भ्रामराचारिणी है माता तेरा दूजा रोप
है रूप है देखो छटा निराली और मनभावन
नाम तेरा जप कर काम हम अगरबत्ती और धुप
देति आपन भक्तन को तप, सदाचार और स्याम

Bhrahamcharini hai mata tera duja roop
Is roop hai dekho chata nirali aur manbhawan
Naam tera jap kar karte hum agarbatti aur dhup
Deti apne bhakton ko tap,sadachar aur sanyam

Apni mand hasi se bharamand ka nirman karne wali mata kushmanda devi durga ka chotha savrup hai. Mata kushmanda ki pooja chothe din ki jati hai. Manyata ke anusar mata kushmanda singh per sawar hokar suryalok me was karti hai. Dosto ummid hai ke aap logo ko hmari ye navratri collection jarur pasand aaegi, aap in shayari ko apne dosto or rishtedaro ko bhejkar unko navratri ki subh kamnae de sakte. Humari or bhi collection dekhne ke lia humare home page per visit kare or niche comment karna na bhule.

Post a Comment

0 Comments